प्रेस विज्ञप्ति

इंडियनऑयल ने पुणे में सतत (SATAT)पहल पर रोड शो की शुरुआत की
New Delhi, December 08, 2018

सार्वजनिक क्षेत्र की तेल विपणन कंपनियों (ओएमसीज़), जैसे इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड, भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने सतत (सस्ते परिवहन के लिए पोषणीय विकल्प)पहल पर जागरूकता पैदा करने के लिए पुणे में आज एक रोड शो आयोजित किया जिसका राष्ट्रव्यापी शुभारंभ माननीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस और कौशल विकास और उद्यमिता मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान द्वारा, 1 अक्टूबर 2018 को किया गया था। रोड शो का उद्देश्य हितधारकों को उस पहल में भाग लेने के लिए संवेदनशील बनाना है और पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के निदेशक श्री विजय शर्मा ने इसकी शुरुआत की।

सतत, अभिनव सतत पहल एक महत्वपूर्ण योजना है जिसमें अधिक किफ़ायती परिवहन ईंधन की उपलब्धता को बढ़ावा देने, कृषि अवशेषों के बेहतर उपयोग, मवेशी गोबर और नगरपालिका ठोस अपशिष्ट के साथ-साथ किसानों को अतिरिक्त राजस्व स्रोत प्रदान करने की क्षमता है। सतत (SATAT) पहल के हिस्से के रूप में, तेल विपणन कंपनियां संभावित उद्यमियों से कंप्रैस्ड बायो गैस (सीबीजी) खरीदने के लिए रुचि की अभिव्यक्ति (ईओआई) आमंत्रित कर रहे हैं और ऑटोमोटिव ईंधन के रूप में उपयोग के लिए बाजार में सीबीजी उपलब्ध कराएंगे। यह 2023 तक प्रति वर्ष 15 मिलियन टन अनुमानित सीबीजी उत्पादन के साथ पूरे देश में 5000 सीबीजी संयंत्र स्थापित करने की परिकल्पना करता है। इस योजना के लिए आवेदन करने के लिए रुचि की अभिव्यक्ति के प्रारूप (ईओआई) तेल विपणन कंपनियों की वेबसाइटों पर उपलब्ध है और इसे 1 अक्टूबर, 2018 से 31 मार्च, 2019 तक भरा जा सकता है।

इस अवसर पर बोलते हुए पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय के निदेशक श्री विजय शर्मा ने कहा कि परिवहन क्षेत्र में सीबीजी की शुरुआत से अपशिष्ट प्रबंधन, कार्बन उत्सर्जन में कमी, किसानों के लिए अतिरिक्त राजस्व स्रोत, रोज़गार के अवसर पैदा करके उद्यमिता और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने जैसे कई लाभ हैं। श्री शर्मा ने बल दिया कि परिवहन क्षेत्र में सीबीजी को बढ़ावा देने से अस्थिर कच्चे तेल और गैस की कीमतों के खिलाफ भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूत होगी। यदि देश में सीबीजी की कुल क्षमता का उपयोग किया जाता है, तो भारत लगभग 62 मिलियन टन सालाना सीबीजी का उत्पादन कर सकता है जो देश की पूरी गैस मांग का स्थान लेने के लिए पर्याप्त है।

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के तत्वावधान में सार्वजनिक क्षेत्र की तेल विपणन कंपनियां देश के स्वदेशी ईंधन उत्पादन को बढ़ाने और इसकी आयात निर्भरता को कम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। तदनुसार तेल विपणन कंपनियों ने सीबीजी आपूर्तिकर्ताओं के लिए ओएमसी रिटेल आउटलेटों में वितरित 46 रुपए प्रति किलो सीबीजी(जीएसटी को छोड़कर) की लाभकारी कीमत तैयार की है।

रोड शो में भावी उद्यमियों, प्रौद्योगिकी प्रदाताओं, वित्तीय संस्थानों, तेल विपणन कंपनियों, पीईएसओ, फिक्की, सीआईआई, एमसीए के अधिकारियों ने भाग लिया और सीबीजी परियोजनाओं को स्थापित करने, उपलब्ध समर्थन तंत्र, सीबीजी वितरण लॉजिस्टिक इत्यादि पर प्रतिभागियों के प्रश्नों के समाधान के लिए विभिन्न हितधारकों के लिए आदान-प्रदान का एक मंच प्रदान किया।